Gandhi aur samaj: गाँधी और समाज (Record no. 226447)

000 -LEADER
fixed length control field 04204nam a22002417a 4500
005 - DATE AND TIME OF LATEST TRANSACTION
control field 20230125160443.0
008 - FIXED-LENGTH DATA ELEMENTS--GENERAL INFORMATION
fixed length control field 230125b ||||| |||| 00| 0 eng d
020 ## - INTERNATIONAL STANDARD BOOK NUMBER
International Standard Book Number 9789388933315
040 ## - CATALOGING SOURCE
Transcribing agency AL
041 ## - LANGUAGE CODE
Language code of text/sound track or separate title hin
082 ## - DEWEY DECIMAL CLASSIFICATION NUMBER
Edition number 23
Classification number H891.4
Item number KISG
100 ## - MAIN ENTRY--PERSONAL NAME
Personal name Giriraj Kishore: गिरिराज किशोर
100 ## - MAIN ENTRY--PERSONAL NAME
9 (RLIN) 69929
245 ## - TITLE STATEMENT
Title Gandhi aur samaj: गाँधी और समाज
260 ## - PUBLICATION, DISTRIBUTION, ETC.
Place of publication, distribution, etc. Nayi Dilli
Name of publisher, distributor, etc. Rajkamal Prakashan
Date of publication, distribution, etc. 2019
300 ## - PHYSICAL DESCRIPTION
Extent 167p.
Other physical details HB
Dimensions 22x14cm.
365 ## - TRADE PRICE
Source of price type code Hindi
Price type code 1831
Price amount 506.00
Currency code
Unit of pricing 595.00
Price note
Price effective from 15%
Price effective until 11-12-2022
520 ## - SUMMARY, ETC.
Summary, etc. गांधी के जीवन और विरोधाभासों को देखें तो कहा जा सकता है कि उनका व्यक्तित्व और दर्शन एक सतत बनती हुई इकाई था। एक निर्माणाधीन इमारत जिसमें हर क्षण काम चलता था। उनका जीवन भी प्रयोगशाला था, मन भी। एक अवधारणा के रूप में गांधी उसी तरह एक सूत्र के रूप में हमें मिलते हैं जिस तरह माक्र्स; यह हमारे ऊपर है कि हम अपने वर्तमान और भविष्य को उस सूत्र से कैसे समझें। यही वजह है कि गोली से मार दिए जाने, बीच-बीच में उन्हें अप्रासंगिक सिद्ध करने और जाने कितनी ऐतिहासिक गलतियों का जिम्मेदार ठहराए जाने के बावजूद वे बचे रहते हैं; और रहेंगे। उनकी हत्या करनेवाली ताकतों के वर्चस्व के बाद भी वे होंगे। वे कोई पूरी लिखी जा चुकी धर्म-पुस्तिका नहीं हंै, वे जीने की एक पद्धति हैं जिसका अन्वेषण हमेशा जारी रखे जाने की माँग करता है। ‘पहला गिरमिटिया’ लिखकर गांधी-चिन्तक के रूप में प्रतिष्ठित हुए, वरिष्ठ हिन्दी कथाकार गिरिराज किशोर ने अपने इन आलेखों, वक्तव्यों और व्याख्यानों में उन्हें अलग-अलग कोणों से समझने और समझाने की कोशिश की है। ये सभी आलेख पिछले कुछ वर्षों में अलग-अलग मौकों पर लिखे गए हैं; इसलिए इनके सन्दर्भ नितान्त समकालीन हैं; और आज की निगाह से गांधी को देखते हैं। इन आलेखों में ‘व्यक्ति गांधी’ और ‘विचार गांधी’ के विरुद्ध इधर जोर पकड़ रहे संगठित दुष्प्रचार को भी रेखांकित किया गया है; और उनके हत्यारे को पूजनेवाली मानसिकता की हिंस्र संरचना को भी चिन्ता व चिन्तन का विषय बनाया गया है।.
650 ## - SUBJECT ADDED ENTRY--TOPICAL TERM
Topical term or geographic name entry element Hindi Prose: हिंदी गांधी
9 (RLIN) 69930
650 ## - SUBJECT ADDED ENTRY--TOPICAL TERM
Topical term or geographic name entry element Gandhi ki Samajikta: गाँधी की सामाजिकता
9 (RLIN) 69931
650 ## - SUBJECT ADDED ENTRY--TOPICAL TERM
Topical term or geographic name entry element Gandhi aur Gav: गांधी और गांव
9 (RLIN) 69932
700 ## - ADDED ENTRY--PERSONAL NAME
Personal name KISHORE (Giriraj): किशोर (गिरिराज)
9 (RLIN) 69933
942 ## - ADDED ENTRY ELEMENTS (KOHA)
Source of classification or shelving scheme
Koha item type Book
Holdings
Withdrawn status Lost status Source of classification or shelving scheme Damaged status Not for loan Collection code Permanent Location Current Location Date acquired Source of acquisition Cost, normal purchase price Total Checkouts Full call number Barcode Date due Date last seen Date last checked out Cost, replacement price Price effective from Koha item type
          Hindi St Aloysius College (Autonomous) St Aloysius College (Autonomous) 01/23/2023 Vidya Vihar Govind Nagar Kanpur 208006 506.00 2 H891.4 KISG 076338 04/27/2024 02/16/2024 02/16/2024 595.00 01/25/2023 Book

Powered by Koha